Poetry, Ghazals and much more !!

बस उम्र ढलती जा रही है

नियति मेरे साथ कैसी,
 चाल चलती जा रही है  /
बात है कुछ भी नही पर ,
बात बढ़ती जा रही है /
हर पल मेरे उम्मीद की ,
उम्र घटती जा रही है /
है ख्वाहिशें अब भी जवां ,
बस उम्र ढलती जा रही है /
                -विजय वर्मा 
बस उम्र ढलती जा रही है बस उम्र ढलती जा रही है Reviewed by VIJAY KUMAR VERMA on 10:45 PM Rating: 5

1 comment:

Powered by Blogger.