Poetry, Ghazals and much more !!

एक तू ही अकेला नहीं है

VIJAY KUMAR VERMA 4:44 AM
सोच कर क्या दुखी हो रहा मन , साथ तेरे जो मेला नहीं है / तेरे जैसे है कितने अकेले , एक तू ही अकेला नहीं है / मुश्किलें क्या जो कोई न अप...Read More
एक तू ही अकेला नहीं है एक तू ही अकेला नहीं है Reviewed by VIJAY KUMAR VERMA on 4:44 AM Rating: 5

असर लाने लगी ,वन्दगी धीरे- धीरे /

VIJAY KUMAR VERMA 4:03 AM
असर लाने  लगी ,वन्दगी धीरे- धीरे / जगमगाने लगी ,जिन्दगी धीरे- धीरे // मिला जबसे शह उनकी सूरत का इसको, सिर उठाने  लगी ,सादगी धीरे -धी...Read More
असर लाने लगी ,वन्दगी धीरे- धीरे / असर लाने  लगी ,वन्दगी धीरे- धीरे / Reviewed by VIJAY KUMAR VERMA on 4:03 AM Rating: 5
Powered by Blogger.