Poetry, Ghazals and much more !!

संघर्ष में प्रतिपल रहा हूँ

VIJAY KUMAR VERMA 8:37 AM
संघर्ष में प्रतिपल रहा हूँ / संघर्ष में ही पल रहा हूँ / वस्त्रहीनो के लिए मै, ठण्ड में कम्बल रहा हूँ / दृस्टहीनो के लिए मै , राह का सं...Read More
संघर्ष में प्रतिपल रहा हूँ संघर्ष में प्रतिपल रहा हूँ Reviewed by VIJAY KUMAR VERMA on 8:37 AM Rating: 5
Powered by Blogger.