Poetry, Ghazals and much more !!

वीर शहीदों की गौरव गाथा ,गाता रहे तिरंगा










वीर शहीदों की गौरव गाथा ,गाता रहे तिरंगा /

बापू के आदर्शों को ,समझाता रहे तिरंगा /


लहराता रहे तिरंगा ,फहराता रहे तिरंगा /



गोरे अंग्रेज चले गए ,काले अंग्रेज अभी भी हैं ;


गिरगिट सा जो रंग बदलते ,ऐसे रंगरेज अभी भी हैं


इनके मंसूबो को समझें ,नापाक इरादों को जाने


मन की आँखों से इनके ,काले भावों को पहचाने


दाल न इनकी गलने पाए


चाल न इनकी चलने पाए


अमन चैन से रहें सभी ,


अब कहीं न हो फिर दंगा


लहराता रहे तिरंगा ,फहराता रहे तिरंगा



कितने सपूत का लहू बहा ,तब नभ में लाली छायी /

कितनो ने सुख से मुख -मोड़ा ,तब जाके खुशहाली आयी /

कितने फांसी पर झूल गए ,कि जीने का अधिकार मिले /

शोषक -शोषित न रहे कोई ,सबको सबका ही प्यार मिले /

सबके हाथों को काम मिले /

मेहनत का उचित इनाम मिले /

कहीं कोई न मिले कभी ,

भूखा ,प्यासा या नंगा /

लहराता रहे तिरंगा ,फहराता रहे तिरंगा /




















































































































































































वीर शहीदों की गौरव गाथा ,गाता रहे तिरंगा वीर शहीदों की गौरव गाथा ,गाता रहे तिरंगा Reviewed by VIJAY KUMAR VERMA on 10:52 AM Rating: 5

5 comments:

  1. स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें और बधाई

    ReplyDelete
  2. स्वाधीनता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं।

    ReplyDelete
  3. स्वतंत्रता दिवस की शुभकानाएं


    इस खूबसूरत रचना के लिए बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  4. देश और देश का भविष्य,
    कोई तो स्पष्ट करे यह दृश्य।

    ReplyDelete
  5. वाह बेहतरीन !!!!
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं….!

    जय हिंद जय भारत
    **************

    ReplyDelete

Powered by Blogger.