Poetry, Ghazals and much more !!

सच्चाई

VIJAY KUMAR VERMA 9:58 AM
सच्चाई को झुठलाया नही जा सकता / औपचारिकतावश हाथ मिला लेने से ही मन नही मिला करता ; जैसे किसी पौधे को कही से लाकर घर की दहलीज पर लगा देने म...Read More
सच्चाई सच्चाई Reviewed by VIJAY KUMAR VERMA on 9:58 AM Rating: 5
Powered by Blogger.