Poetry, Ghazals and much more !!

कैसे बिसरी

मोरे मन की बतिया सुनके मोहे पागल समझके मत हंस री
तुहका कुछ याद नहीं न सही मोरे मनमीत की ई नगरी
देखब कब तक लईके घुमबो सिर पर मोरे यादन की गठरी
कबहू तो कोइ ठोकर लगिहे जब ई गठरी जाइहे बिखरी
गठरी बिखरी तो कहा मानो जिनगी जहा बा जाई ठहरी
दिनवा के न मनवा में चैन रही रतिया अखिया में बहुत अखरी
भूलल बतिया बहु याद आईहे बतिया जिनमे थी घुली मिसरी
लारिकैयाँ कै यारी बतावा तुही मनवा में से कैइसे बिसरी
कैसे बिसरी कैसे बिसरी Reviewed by VIJAY KUMAR VERMA on 4:52 AM Rating: 5

1 comment:

  1. Vijay Ji,
    I have very less understanding of litre. but bafter reading above poem Ifeel nice.

    Keep it up.

    Deshvrat Rai

    ReplyDelete

Powered by Blogger.