Poetry, Ghazals and much more !!

गिरने के बाद जो खुद ही संभल सकता है,
वो अपने हाथ की रेखा भी बदल सकता है
हवा की चाल जिसने गौर से महसूस किया
वो ज़माने से बहुत आगे निकल सकता है
Reviewed by VIJAY KUMAR VERMA on 6:47 AM Rating: 5

1 comment:

  1. YATHARTH CHITRAN HAI VERMAJI,
    BAHAUT-2 badhia aur matlab ki baten batatey hain aap.
    Manushya apney purusharth sey durbhagya ko Saubhagya me badal sakta hai ,yahi to mai bhi jyotish mey bata raha hun apne krantiswar key madhyam sey.

    ReplyDelete

Powered by Blogger.